Life and Journey of Superstar

जुबली निर्देशक प्रकाश मेहता
 prakash-mehra.jpg   एक नौजवान, नाकाम और हताश, मुंबई में मिली असफलताओं का बोझ दिल में लिए घर लौटने कि तैयारी कर रहा था कि उसे एक युवा निर्देशक ने रुकने कि हिदायत दी और अपनी एक छोटे बजट कि फिल्म में उस नौजवान को मुख्य रोल कि पेशकश दी. नौजवान ने उस निर्देशक पर विश्वास किया और सोचा कि एक आखरी दांव खेल लिया जाये. फिल्म बनी और जब दर्शकों तक पहुंची तो कामयाबी कि एक नई कहानी लिखी जा चुकी थी.....दोस्तों, वो नौजवान थे अमिताभ बच्चन और वो युवा निर्देशक थे प्रकाश मेहरा.

                  उत्तर प्रदेश के बिजनौर में 13 जुलाई 1939 को जन्में प्रकाश मेहरा ने फिल्म इंडस्ट्री में अपने कैरियर कि शुरुवात  प्रौडक्शन कंट्रोलर के तौर पर की. कुछ साल तक इंडस्ट्री में रहकर यह काम करने के दौरान उन्होंने फिल्म निर्माण को करीब से देखा-समझा और कई फ़िल्मी हस्तियों से भी उनके अच्छे संबंध हो गए. तब उन्होंने शशि कपूर को डबल रोल में लेकर हसीना मान जाएगी (1968) बनाई, जो खासी बड़ी हित साबित हुई. 1971 में उन्होंने खान बंधुओं संजय और फिरोज को लेकर मेला बनाई. यह भी बहुत बड़ी हित फिल्म थी. इसके बाद उन्होंने और भी कई फ़िल्में बनाई मगर उनकी जिंदगी में उछाल आया जंजीर से. 1973 में आई इस फिल्म के नायक अमिताभ बच्चन के खाते में तब तक कोई बड़ी कामयाबी नहीं आ पाई थी और वह फ़िल्में छोड़ने की भी सोचने लगे थे. जब प्रकाश मेहरा ने उन्हें जंजीर का रोल ऑफर किया, दिलचस्प बात यह भी है की उस समय के कई नामी हीरो (राज कुमार, देव आनंद आदि) इस फिल्म को ठुकरा चुके थे. यह फिल्म आई और जैसे सब कुछ बदल गया. चारों तरफ अमिताभ के नाम की धूम मच गई. उन्हें एंग्री यंग मैन का ख़िताब दे दिया गया और प्रकाश मेहरा की गिनती दिग्गज फिल्मकारों में की जाने लगी. अमिताभ और प्रकाश मेहरा की इस जोड़ी ने जंजीर के बाद हेरा फेरी, मुकद्दर का सिकंदर, लावारिस, नमक हलाल, शराबी और जादूगर जैसी फ़िल्में दी. इनमें से जादूगर को छोड़ कर बाकी सभी फ़िल्में सुपरहिट हुई. 

                   बतौर निर्देशक प्रकाश मेहरा की आखरी सफल फिल्म शराबी 25 साल पहले 1984 में आई थी. तब से लेकर अब तक फिल्म दर्शकों की एक पूरी पीढ़ी ही बदल चुकी है. लेकिन क्या कोई फिल्म प्रेमी शराबी को भुला सकती है? क्या लावारिस, नमक हलाल या मुकद्दर का सिकंदर का नाम लिए बिना हिंदी फिल्मों का इतिहास लिखा जा सकता है?

            बहुत  पहले, जब कोई बॉलीवुड और हॉलीवुड के गठजोड़ के बारे में सोचता भी नहीं था प्रकाश मेहरा ने फ्रैंक यांदोलिनो के साथ मिलकर द  गाँड कनेक्शन नाम से एक बड़े बजट कि फिल्म शुरू की थी. जिसमे चार्ल्स ब्रानसन को लिया गया था. मगर बड़े जोर शोर से शुरू हुई यह फिल्म कभी पूरी न हो सकी. 1996 में उन्होंने अभिनेता राज कुमार के बेटे पुरु राज कुमार को अपनी फिल्म बाल ब्रम्हचारी से लॉंच किया. यह फिल्म तो नाकाम रही थी. साथ ही इसके बाद उन्होंने निर्देशन भी छोड़ दिया.

17 मई की सुबह उन्होंने अपना शारीर त्याग दिया. हिंदी सिनेमा को समृद्ध करने वाले इस फ़िल्मकार को हमारा नमन.

                                                            फ़िल्में   जो हमेशा रहेंगी याद
                                                             हसीना मान जाएगी (1967)
                                                                 आखिरी डाकू (1970)
                                                                       मेला (1971)
                                                                     समाधी (1972)
                                                                     जंजीर (1973)
                                                              हाथ की सफाई (1974)
                                                                   हेरा फेरी (1976)
                                                                खून पसीना (1977)
                                                         मुकद्दर का सिकंदर (1978)
                                                                    लावारिस (1981)
                                                                 नमक हलाल (1982)
                                                                     शराबी (1984)
                                                                    जादूगर (1989)
                                                             जिंदगी एक जुआ (1992)
                                                                  दलाल (1993)
                                                             बाल ब्रम्हचारी (1996)